युद्ध स्तर पर हो रहा है पटना को उत्तर बिहार से जोड़ने वाले पुल का निर्माण, जानें कब तक पूरा होगा फोरलेन ब्रिज


पटना में गंगा नदी पर बन रहा नया फोर लेन पुल

पटना में गंगा नदी पर बन रहा नया फोर लेन पुल

Four Lane Bridge On Ganga In Patna: बिहार की इस अतिमहत्वपूर्ण परियोजना की कुल लागत 2926.42 करोड़ रुपए है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 सितंबर 2020 को ही इस पुल का शिलान्यास किया था.

पटना. राजधानी पटना को उत्तर बिहार से जोड़ने वाला महात्मा गांधी सेतु (Mahatma Gandhi Setu) उत्तर बिहारियों के लिए लाइफ लाइन है. लाइफ लाइन इसलिए क्योंकि अगर यह रास्ता बंद हो जाए तो उत्तर से दक्षिण बिहार का संपर्क ही टूट जाएगा. याद कीजिए जब गंगा ब्रिज कुछ घण्टों के लिए जाम हो जाता है तो सड़क से सदन तक कोहराम मच जाता है लेकिन आज हम जाम और लोगों की हो रही परेशानी पर बात नही करेंगे बल्कि आज बात केवल अच्छी और लोगों को खुशी- सौगात देने वाली उस खबर की बात करेंगे जो उत्तर बिहार के लोगों के लिए संजीवनी का काम करनेवाली है.

फोरलेन है पुल

दरअसल बिहार सरकार के आग्रह पर प्रधानमंत्री विशेष पैकेज के तहत गंगा नदी पर महात्मा गांधी सेतु के समानांतर एक नए फोरलेन पुल का कार्यारंभ हो चुका है यानि उत्तर बिहार के लोगों के लिए डबल लाइफ लाइन वाली सौगात मिल रही है. इसका मतलब साफ़ है कि अब महात्मा गांधी सेतु पर जाम से लोगों जुझना नहीं पड़ेगा. कुछ सालों में उत्तर बिहार के लोगों को हमेशा-हमेशा के लिए जाम से छुटकारा मिलने वाला है.

गंगा ब्रिज के समानांतर बन रहा है 4 लेन ब्रिज, जाम होगा अब छू मंतरकरोड़ों की लागत से बन रहा यह पुल ना सिर्फ उत्तर बिहारवासियों बल्कि राजधानी पटना में रहने वालों के लिए भी संजीवनी का काम करेगी. महात्मा गांधी सेतु के जाम से कोई बच नहीं पाता. घण्टों-घण्टों तक जाम में फंसने वालों के लिए यह न्यू महात्मा गांधी सेतु वाकई किसी संजीवनी से कम नहीं. पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा ने न्यूज 18 को बताया कि गंगा नदी पर महात्मा गांधी सेतु के समानांतर फोरलेन वाले पुल और इसके आठ लेन पहुंच पथ का निर्माण कार्य शुरू हो गया है. सितंबर, 2024 में इसका निर्माण कार्य पूरा हो जायेगा और आम लोगों के लिए खोल भी दिया जायेगा.

42 महीने में बनेगा पुल

इस पुल को एसपी सिंगला प्राइवेट लिमिटेड कंपनी बना रही है. 25 मार्च को इस पुल का निर्माण कार्य शुरू हो गया जो 42 महीनों में पूरा कर लिया जायेगा. अमृत लाल मीणा ने ये बताया कि इस पुल के निर्माण में 2926.42 करोड़ की लागत है. नया सेतु पुराने गांधी सेतु से 38 मीटर सेंटर-टू-सेंटर की दूरी रहेगा. इस तरह बिहारवा सियों को कुल छह लेन का पुल आवागमन के लिए उपलब्ध रहेगा. इनमें तीन लेन का उपयोग आने और तीन लेन का उपयोग जाने के लिए किया जायेगा.

पीएम के पैकेज का हिस्सा

पटना की तरफ से पहुंच पथ की कुल लंबाई 3380 मीटर होगी दरअसल यह योजना बिहार राज्य के लिए घोषित प्रधानमंत्री पैकेज-2015 का ही भाग है. इस परियोजना की कुल लागत 2926.42 करोड़ है और  प्रधानमंत्री ने 21 सितंबर 2020 को ही इस पुल का शिलान्यास भी कर दिया था.

युद्ध स्तर पर चल रहा है निर्माण कार्य

न्यूज 18 की टीम जब ग्राउंड जीरो पहुंची तो न्यू महात्मा गांधी सेतु पर युद्ध स्तर पर निर्माण कार्य चल रहा था. यही नहीं साथ ही पुराने महात्मा गांधी सेतु का पूर्वी लेन का कार्य भी तेजी से चल रहा था. गंगा ब्रिज प्रोजेक्ट के देखरेख में रह रहे एक्जक्यूटिव इंजीनियर वीरेन्द्र कुमार बताते हैं कि यह योजना उन सबके लिए बहुत चुनौती वाली है क्योंकि इस पुल से बिहार के लोगों की उम्मीदें भी जुड़ी हैं. उत्तर-दक्षिण बिहार को जोड़ने वाला यह महात्मा गांधी सेतु बिहारवासियों के लिए कितना मायने रखता है ये बिहारवासियों से बेहतर कोई नहीं जानता, ऐसे में उन लोगों के लिए वाकई ये नई सौगात किसी संजीवनी से कम नहीं है जो घण्टों नहीं रात-रात भर गंगा ब्रिज पर जाम में रात गुजारे हैं.








pardison fontaine height

mr organik net worth

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *