पटना एम्स ने की पुष्टि, अदरख, हल्दी और अनारदाना का अर्क कोरोना को धड़ल्ले से दे रहा मात, ICMR से मंजूरी का इंतजार


पटना एम्स में PhytoRelief-CC दवा के बारे में जानकारी देते हुए डॉ योगेश कुमार व अन्य.

पटना एम्स में PhytoRelief-CC दवा के बारे में जानकारी देते हुए डॉ योगेश कुमार व अन्य.

Bihar Covid 19 Update: एम्स पटना के डिप्टी मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. योगेश कुमार ने बताया कि 100 रोगियों पर किए गए अध्ययन में यह साबित हुआ है कि फाइटोरिलीफ-सीसी दवा न केवल रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है, बल्कि कोरोना संक्रमितों को जल्द स्वस्थ करने में भी मददगार है.

पटना. कोरोना से पीड़ित ऐसे रोगी जो होम आइसोलेशन में रह रहे हैं उनके लिए पटना एम्स ने बड़ी खुशखबरी दी है. हल्दी, अदरक और अनारदाना के अर्क से बनी फाइटोरिलीफ-सीसी नामक दवा का परीक्षण करने के बाद पटना एम्स के डाक्टरों ने इसके उपयोग की मंजूरी दे दी है. ट्रायल में यह पाया गया है कि कोरोना के हल्के लक्षण व होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों के लिए एक और दवा सफल हुई है. हालांकि एम्स का कहना है कि अभी आइसीएमआर की अनुमति का इंतजार है.

पटना एम्स में  फाइटोरिलीफ-सीसी दवा का कोविड 19 में क्लिनिकल ट्रायल किया गया. यह ट्रायल 100 लोगों पर किया गया. इनमें  होम क्वारंटीन में रहने वाले 83 प्रतिशत मरीज 10 महज दिनों में ही ठीक हो गए. नॉर्मल कोविड के दवा का इस्तेमाल करते हुए 25 मरीजों में 8 मरीज ठीक हुए जबकि इस दवा का इस्तेमाल करनेवाले 25 मरीजों में 10 मरीज ठीक हुए.

एम्स पटना के डिप्टी मेडिकल सुपरिटेंडेंट सह एडिशनल प्रोफेसर डॉ. योगेश कुमार ने बताया कि सौ रोगियों पर किए गए अध्ययन में यह साबित हुआ है कि फाइटोरिलीफ-सीसी नामक दवा न केवल रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है, बल्कि कोरोना संक्रमितों को जल्द स्वस्थ करने में भी मददगार है.

डॉ योगेश ने कहा कि परीक्षण में पाया गया कि जिन संक्रमितों को मानक के अनुरूप दवा के साथ इसे दिया गया, उनमें संक्रमण तेजी से घटा। इस दवा को लेने वालों  में एक्यूट इन्फ्लेमेशन, फेफड़ों को नुकसान आदि की जानकारी देने वाले सीआरपी जैसी जांच की रिपोर्ट भी बेहतर रही. इस दवा की एक-एक टैबलेट सुबह, दोपहर व शाम को चूसकर लेना रोगियों के लिए काफी फायदेमंद रहा.उन्होंने बताया कि यह पहले से बनाई हुई दवा है. जिसमें अनार के दानें, हल्दी और अदरक से फैटोरिल निकाल लिया गया है. फिर इस दवा को तीनों के फैटोरियल मिलाकर बनाया गया है. यह काफी कारगर दवा है और इससे मरीजों में इम्युनिटी  बढ़ाने के साथ-साथ सर्दी खासी और बुख़ार जैसे बीमारी पर बेहतरीन प्रभाव डालता है. इसका ट्रायल होम आइसोलेशन में रहे मरीजों पर पर किया गया जिसमें बेहतर रिजल्ट भी आए हैं.

डॉ. योगेश ने यह भी बताया कि हल्दी, अदरक और अनारदाना को सदियों से उनके एंटी वायरल गुणों के लिए जाना जाता है. सर्दी, खांसी, खरास व बुखार के लिए एक कंपनी ने सात वर्ष पूर्व यह दवा बनाई थी और अमेरिका व ब्रिटेन में इसका पेटेंट ले रखा है. कोरोना के हल्के व मध्यम लक्षणों में इस फाइटोरिलीफ-सीसी दवा को उपयोगी बताते हुए कंपनी ने मुफ्त वितरण की बात कही थी.








pardison fontaine height

mr organik net worth

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *