नोएडा, गाजियाबाद, फरीदाबाद में दो दिन बाद वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुंची


दिल्ली एनसीआर की हवा फिर गंभीर श्रीणी में पहुंच गई. (फाइल फोटो)

दिल्ली एनसीआर की हवा फिर गंभीर श्रीणी में पहुंच गई. (फाइल फोटो)

शून्य से 50 के बीच AQI ‘अच्छा’, 51-100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101-200 के बीच ‘सामान्य’ 201-300 के बीच ‘खराब’, 301-400 के बीच ‘बेहद खराब’ और 401-500 के बीच ‘गंभीर’ की श्रेणी में आता है.

नोएडा. गाजियाबाद (Ghaziabad), नोएडा (Noida), ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) और फरीदाबाद (Faridabad) में दो दिन बाद औसत वायु गुणवत्ता गिरकर ‘गंभीर’श्रेणी में पहुंच गई है, वहीं गुड़गांव में यह ‘बेहद खराब’ श्रेणी में है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) द्वारा वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) पर नजर रखी जाती है और उसके मुताबिक दिल्ली से सटे पांचों शहरों में पीएम 2.5 और पीएम 10 का उच्च स्तर अब भी बना हुआ है.

ये हैं हवा की गुणवत्ता के मानक

उल्लेखनीय है कि शून्य से 50 के बीच एक्यूआई ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच एक्यूआई ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच एक्यूआई ‘सामान्य’ 201 और 300 के बीच एक्यूआई ‘खराब’, 301 और 400 के बीच एक्यूआई ‘बेहद खराब’ और 401 से 500 के बीच एक्यूआई ‘गंभीर’ की श्रेणी में आता है.

सेहत पर पड़ता है असरप्रदूषण बोर्ड के ‘समीर’ ऐप के मुताबिक, गाजियाबाद में रविवार को बीते 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 407 दर्ज किया गया जबकि ग्रेटर नोएडा में 418, नोएडा में 405, फरीदाबाद में 404 और गुरुग्राम में 359 रहा. बोर्ड के अनुसार, ‘बेहद खराब’ श्रेणी के एक्यूआई में लंबे समय तक रहने पर सांस संबंधी परेशानी हो सकती है, जबकि ‘गंभीर’ स्तर के चलते स्वस्थ और पहले से ही बीमारी से जूझ रहे लोगों की सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है. हवा की बेहद खराब गुणवत्ता से श्वसन संबंधी दिक्कत हो सकती है, जबकि गंभीर श्रेणी से स्वस्थ्य लोगों को भी परेशानी हो सकती है.

पिछले दो दिनों का AQI

गाजियाबाद में शनिवार को बीते 24 घंटे का औसत एक्यूआई 367 दर्ज किया गया, जबकि ग्रेटर नोएडा में 355, नोएडा में 344, फरीदाबाद में 300 और गुरुग्राम में एक्यूआई 269 रहा. एजेंसी के मुताबिक, गाजियाबाद में शुक्रवार को गत 24 घंटे का औसत एक्यूआई 391 दर्ज किया गया था जबकि ग्रेटर नोएडा में 376, नोएडा में 386, फरीदाबाद में 328 और गुरुग्राम में एक्यूआई 302 रहा था.





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *