डायरेक्टर की माफी के बाद भी वेब सीरीज पर ‘तांडव’ जारी, बीजेपी नेता बोले- हटाना ही पड़ेगा कॉन्टेंट


तांडव वेब सीरीज में हिंदू धर्म के देवताओं पर कथित आपत्तिजनक टिप्पणियों के आरोप में भले ही डायरेक्टर अली अब्बास जफर ने माफी मांग ली है, लेकिन अब भी बीजेपी नेता उन्हें बख्शने के मूड में नहीं हैं। बीजेपी लीडर कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया है, ‘अली अब्बास जफर जी – कभी अपने मजहब पर मूवी बनाकर माफी मांगिए। सारी अभिव्यक्ति की आज़ादी हमारे ही धर्म के साथ क्यों? कभी अपने एकमात्र ईष्ट का भद्दा मजाक उड़ाकर भी शर्मिंदा होइए। आपके अपराधों का हिसाब भारत का कानून करेगा। जहरीला कंटेट वापस लीजिये, तांडव को हटाना ही पड़ेगा।

इससे पहले सोमवार को तांडव वेब सीरीज की समूची स्टार कास्ट और क्रू मेंबर्स की ओर से जफर अली अब्बास ने बयान जारी कर माफी मांगी थी। अली अब्बास जफर ने एक बयान ट्वीट करते हुए लिखा था, ‘वेब सीरीज तांडव पर दर्शकों की प्रतिक्रिया पर हम नजर बनाए हुए हैं। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से हमें बड़ी संख्या में लोगों की आपत्तियों और शिकायतों के बारे में बताया गया है कि कैसे इसके कॉन्टेंट से कुछ लोगों की भावनाएं आहत हुई हैं।’

इसके साथ ही अली अब्बास जफर ने लिखा था, ‘इसका कॉन्टेंट पूरी तरह से काल्पनिक है। इसका किसी भी व्यक्ति घटना से संबंध होना सिर्फ एक संयोग मात्र है। वेब सीरीज की कास्ट और क्रू मेंबर्स का किसी समुदाय, धर्म, जाति, नस्ल और संप्रदाय की भावनाओं को आहत करने का कोई इरादा नहीं रहा है।’

तांडव वेब सीरीज की कास्ट और क्रू मेंबर्स ने लोगों की आपत्तियों का संज्ञान लिया है। यदि किसी की भी भावनाएं इससे आहत हुई हैं तो हम बिना शर्त माफी मांगते हैं। बता दें कि तांडव वेब सीरीज रिलीज होने के बाद से ही इसे लेकर विवाद जारी है। यहां तक कि सोमवार को बीएसपी चीफ मायावती ने भी ट्वीट कर कहा था कि यदि इसमें कुछ भी आपत्तिजनक है या किसी समुदाय की भावनाओं को आहत करने वाला है तो उसे हटाया जाना चाहिए। बता दें कि इस वेब सीरीज के पहले एपिसोड में भगवान शिव और राम को लेकर टिप्पणियां की गई हैं, जिसे लेकर लोगों ने सोशल मीडिया पर कड़ा विरोध जताया था।

यही नहीं इस वेब सीरीज के निर्माताओं के खिलाफ कुछ जगहों पर केस भी दर्ज हुए हैं। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से भी इसे लेकर अमेजन प्राइम को नोटिस जारी किया गया था। इस वेब सीरीज पर कांग्रेस लीडर मिलिंद देवड़ा ने भी टिप्पणी करते हुए कहा है कि ओटीपी प्लेटफॉर्म्स के कॉन्टेंट स्वनियमन को लेकर कोई व्यवस्था होनी चाहिए। यह व्यवस्था टीवी चैनलों जैसी ही होनी चाहिए और इसमें सरकार का कोई दखल नहीं होना चाहिए।




Latest Marathi News

Latest TV Serial Cast

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *