इस महीने कोरोना से अब तक 1,759 लोगों की मौत


अक्टूबर के अंत से दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में काफी तेजी आई है (फाइल फोटो)

अक्टूबर के अंत से दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में काफी तेजी आई है (फाइल फोटो)

नवंबर के महीने में अभी तक दिल्ली (Delhi) में इस कोरोना वायरस (Corona Virus) महामारी से 1,759 लोगों की मौत हो चुकी है. बीते 21 दिन में कोविड-19 (Covid-19) से औसत मृत्यु दर लगभग 83 मौत प्रतिदिन है. पिछले 10 दिन में मौत का आंकड़ा चार बार 100 से अधिक पहुंचा है


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 22, 2020, 6:41 PM IST

नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में हर बीतते दिन के साथ कोरोना वायरस (Corona Virus) महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. कोविड-19 (Covid-19) की तीसरी लहर का सामना कर रही दिल्ली में इससे मृत्यु दर 1.58 प्रतिशत है जबकि देश में यह दर 1.48 प्रतिशत है. विशेषज्ञों ने राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 से मौत के अधिक मामलों के लिए इलाज के वास्ते शहर में बड़ी संख्या में आने वाले ‘गंभीर’ गैर-निवासी मरीजों, प्रतिकूल मौसम, प्रदूषण आदि को जिम्मेदार ठहराया है.

नवंबर के महीने में अभी तक दिल्ली में इस महामारी से 1,759 लोगों की मौत हो चुकी है. बीते 21 दिन में कोरोना वायरस से औसत मृत्यु दर लगभग 83 मौत प्रतिदिन है. पिछले 10 दिन में मौत का आंकड़ा चार बार 100 से अधिक पहुंचा है.

अधिकारियों ने बताया कि शनिवार को 111 मरीजों, शुक्रवार को 118, बुधवार को 131 और 12 नवंबर को 104 लोगों की मौत हुई है. सरकारी आंकड़े के अनुसार दिल्ली में औसत मृत्युदर 1.58 प्रतिशत है जोकि राष्ट्रीय मृत्युदर 1.48 प्रतिशत की तुलना में अधिक है.

राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. बीएल शेरवाल ने कहा, ‘कुल मिलाकर, सर्दियों में अधिक मौतें होती हैं. यह एक बड़ा अंतर है जिसे हमने कोविड-19 से मौत के मामले में भी देखा है.’ उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के कारण जिन लोगों की मौत हुई है उनमें से 70 प्रतिशत बुजुर्ग या गंभीर बीमारियों से ग्रस्त थे.

डॉ. शेरवाल ने कहा कि लॉकडाउन हटाए जाने से पहले ज्यादातर युवा संक्रमित हो रहे थे. उन्होंने कहा कि वायरस प्रतिबंधों में ढील देने के कारण और त्योहार के मौसम में तेजी से बुजुर्गों के बीच फैल गया है. भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के पूर्व महानिदेशक एन.के गांगुली ने कहा कि शुरुआती महीनों की तुलना में मौत के मामलों का आंकड़ा बेहतर ढंग से जुटाया जा रहा है.

बता दें कि दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी हाल ही में कहा था कि दिल्ली में कोविड-19 की मृत्यु दर राष्ट्रीय औसत से थोड़ी अधिक है. (भाषा से इनपुट)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *